More

    राफेल सौदे में आठ हजार करोड़ की कमीशनखोरी फ्रांस मीडिया का दवा

    नई दिल्ली: भारत राफेल डील फ्रांस की कंपनी दसॉल्ट के साथ भारत का लड़ाकू विमान राफेल सौदा बहुचर्चित रछा सौदा एक बार फिर भरस्टाचार और कमीशनखोरी का पोल खोलती है फ्रांस की प्रकाशन कंपनी मिडियापार्ट ने रविवार रात को भ्र्ष्टाचार रोधी एजेंसी के हवाले से एक रिपोर्ट जारी की है

    दसॉल्ट समूह ने खुद स्वीकार किया है

    फ्रांसीसी मीडिया का दावा बिचौलियों को दिया 8.5 करोड़ रुपए

    फ्रांस की प्रकाशन कंपनी मिडियापार्ट ने रविवार रात को जारी रिपोर्ट मैं खुद स्वीकार किया है रिपोर्ट के अनुसार दसॉल्ट समूह ने खुद स्वीकार किया कि 2016 में सौदे होने के तुरंत बाद उनकी कंपनी ने करीब 10 लाख यूरो यानी 8.52 करोड़ रुपए एक भारतीय बिचौलिये को गिफ्ट के रूप में दिए थे दसॉल्ट समूह 2017 के खाता विवरण में इस राशि में 5,08,925 यूरो को खरीदारी के लिए तोहफे के रूप में दिखाया गया है

    दसॉल्ट समूह ने अपने ऑडिट में बताया कि यह रकम विमान का मॉडल तैयार करने वाली एक कंपनी को दी गई

    कांग्रेस ने राफेल भ्रष्टाचार के खुलासे के बाद बीजेपी को घेरा

    फ्रांस की प्रकाशन कंपनी मिडियापार्ट ने रविवार रात को जारी रिपोर्ट उनके हाथ लगते ही उनको बैठे-बिठाए मुद्दा मिल गया कांग्रेस ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा राहुल गांधी ने घोटाले के जो आरोप लगाए थे वह आखिर सच निकला

    कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने एक प्रेस रिपोर्ट जारी करते हुए कहा 60 हजार करोड़ रूपए से अधिक रक्षा सौदे में देश के सबसे सौदे में न खाऊंगा न खाने दूंगी दुहाई देने वाली मोदी सरकार की कमीशनखोरी उजागर हो गई है

    सुरजेवाला ने सवाल उठाते हुए कहा दसॉल्ट एक खुद बड़ी विमान निर्माता कंपनी है जो उसने डिजाइन बाहर से क्यों बनवाए ?

    क्या यह राशि कमीशन नहीं है?

    मोदी सरकार बताएं कि क्या उसने रक्षा सौदे में बिचौलियों के कमीशन की मंजूरी दी है ? क्या मोदी सरकार इस पर मामले की जांच कराएगी ?

    इस बात का पता जब चला फ्रांस की एंटी करप्शन एजेंसी ने दसॉल्ट के खातों का ऑडिट किया

    फ्रांस की एंटी करप्शन एजेंसी ने दसॉल्ट के खातों को ऑडिट किया उनके खातों का लेन-देन और जांच में पता चला दसॉल्ट ने अपने ऑडिट में बताया कि यह रकम विमान का मॉडल तैयार करने वाली एक कंपनी को दी गई है
    सवाल यहं बनता है की दसॉल्ट एक नामी विमान निर्माता कंपनी है तो डिजाइन के लिए किसी और को क्यों पैसा देगी उनको यह बात हजम नहीं हुई
    फ्रांस की प्रकाशन कंपनी मिडियापार्ट ने अपने पोर्टल पर इस न्यूज़ को छापा और तभी जाकर खबर फैली

    सुप्रीम कोर्ट से भी मिल चुकी है राफेल डील भ्रष्टाचार में क्लीनचिट

    केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने फ्रांसीसी मीडिया की रिपोर्ट और कांग्रेस के आरोप को पूरी तरह बेबुनियाद बताते हुए कहा राफेल सौदे में कोई भ्रष्टाचार नहीं हुआ है सुप्रीम कोर्ट भी साफ कर चुका है कि इस सौदे की जांच कराने की कोई जरूरत नहीं है और कैग को भी इसमें कुछ गलत नहीं मिला था रविशंकर प्रसाद ने फ्रांसिस मीडिया की रिपोर्ट को अंदरूनी औद्योगिक प्रतिद्वंद्विता को नतीजा बताते हुए कहा कि इसका भारत सरकार से कोई लेना देना नहीं है

    ताजा समाचार

    ताजा समाचार

    Translate »