More

    लाल किला किसने बनवाया था

    लाल किला किसने बनवाया था दिल्ली का लाल किला पांचवे मुग़ल शासक शाहजहां ने बनवाया था इस किले को को लाला किला इसकी लाल दीवारों के कारण खा जाता है 207 में लाला किले को यूनेस्को द्वारा एक विश्व धरोहर स्थाल चयनित किया गया था लालकिला भी ताजमहल की तरह जमुना नदी के किनारे मौजूद है लाल किले के चारो तरफ गहरी खाई थी जो जमुना नदी के पानी से भर्ती थी लाल किले की दिवार एक पुराने किले से लगी हुई थी जिसको सलीमगढ़ का किला भी बोला जाता था सलीमगढ़ का किला इस्लाम शाह सुरी 1546 में बनवाया था लालकिले का निर्माण 1638 में सुरु होकर 1648 में निर्माण पूरा हुआ कुछ लोगों का कहना है शाहजहां ने इसको कब्ज़ा करके बनवाया था इस लालकोट का एक पुराना किला या नगरी बताते हैं लालकोट राजा पृथ्वीराज चौहान की बारहवीं सदी के अंतिम दौर में राजधानी थी किला या महल शाहजहांनाबाद की मध्यकालीन शहर का महत्वपूर्ण केंद्र रहा है लालकिले की तैयारी व्यवस्था सुंदरता सजावट का मुख्य रहा है लाल किले के निर्माण के बाद शाहजहां राज में शाहजहां के द्वारा किये गए विकास कार्य कई बड़े पहलू औरंगजेब और आखरी मुग़ल शासकों द्वारा सम्पूर्ण अस्थ्पित में कई मुलभुत परिवर्तनों में ब्रिटिश राज में 1857 का पहला स्व्तंत्रता संग्राम के बाद किया गया था ब्रिटिश राज में लालकिले को छावनी के रूप में इस्तेमाल किया गया था आज़ादी के बाद भी 2003 तक सेना के देख रेक में रहा लालकिला लाला किला मुग़ल बादशाह शाहजहां की नई राजधानी शाहजहांनाबाद का महल था यह दिल्ली शहर की सातवां मुस्लिम शहर था शाहजहां ने अपनी राजधानी को आगरा से दिल्ली बदल दिया अपने राज की मानसम्मान बढ़ने के लिए साथ में अपनी नये निर्मण करने के लिए लाल किले पर ब्रिटिश सेना का कब्ज़ा हो गया कई रिहायशी महल नष्ट कर दिए गए थे लालकिला ब्रिटिश सेना का मुख्यालय भी था बहादुर शाह जफर पर यहीं मुकदमा भी चला था यहां पर नवम्बर 1945 में इंडियन नेशनल आर्मी के तीन अफसरों का कोर्ट मार्सल भी हुआ था हयात बख्श बैग लाल किले के उत्तरी काफी पेड़ आज भी हैं जिसको हयात बख्श बाग कहते हैं खास महल लाल किले में तीसरा मंडप है खास महल इसमें शाही कछ बने हैं राजसी शयन कछ प्रार्थना कछ एक बरामदा है एक बुर्ज बना है जिसमें बादशाह जनता से रूबरू होते थे मोती मस्जिद लालकिले में हमाम के पछिम में मोती मस्जिद है यह औरंगजेब की निजी मस्जिद थी जनाना लालकिले जो महिलों के लिए बनाये गए थे जिनको जनाना कहते हैं मुमताज महल सरोवर बना है जिसमें नहर से पानी आता था दीवान ए खास बादशाह का निजी सभा कछ दीवान ए खास जो राजा का निजी सभा कछ था दीवाने खास मंत्री मंडलों की बैठक होती थी जहां रज्यों के लिए रूप रेखा बांया जाता था दीवान ए आम लालकिले के गेट के पर एक और खुला मैदान है दीवान ए आम आम जनता के लिए बना था नक्करखाना लाहौरी गेट से चौक तक आने वाली सड़क से लगे खुले की ओर नक्करखाना बना है

    PUBLICO Latest Hindi News Live

    ताजा समाचार

    ताजा समाचार

    Translate »